STAND-UP INDIA LOANS स्टैंड–अप इंडिया ऋण

Stand-Up India (SUI) scheme has been launched by Hon’ble Prime Minister (PM) on the occasion of Independence Day i.e. August 15, 2015. The Government of India (GoI) has launched a campaign “Stand-Up India”. Mitra Portals provide credit access to entire banks as also handholding support to avail loans for setting up an enterprise (including Mudra Loans / MSME Loans / Stand-Up India Loans). Thousands of MSMEs have already got benefited from handholding support as also online loans. स्वतन्त्रता दिवस के अवसर पर अर्थात 15 अगस्त, 2015 को माननीय प्रधान मंत्री द्वारा स्टैंड–अप इंडिया योजना का लोकार्पण किया गया । भारत सरकार ने “स्टैंड-अप इंडिया” मित्र पोर्टल पर एक अभियान का शुभारंभ किया है जिसकी सहायता से सभी बैंकों एवं हैंडहोल्डिंग एजेंसियों तक पहुंच सुनिश्चित की जा सकती है जो किसी उद्यम को स्थापित करने के लिए मुद्रा ऋण एमएसएमई ऋण / स्टैंड-अप इंडिया ऋण ले सकेंगे। हैंडहोल्डिंग सहायता और ऑनलाइन ऋण की सुविधा से हजारों एमएसएमई पहले से ही लाभान्वित हुए हैं।

What is Stand-Up Indiaस्टैंड-अप इंडिया क्या है

Stand-Up India Scheme Facilitates bank loans between 10 lakh and 1 Crore to at least one Scheduled Caste (SC) or Scheduled Tribe (ST) borrower and at least one woman borrower per bank branch for setting up a greenfield enterprise. This enterprise may be in manufacturing, services or the trading sector. In case of non-individual enterprises at least 51% of the shareholding and controlling stake should be held by either an SC/ST or woman entrepreneur.स्टैंड-अप इण्डिया योजना के अंतर्गत ग्रीनफील्ड उद्यम स्थापित करने के लिए सभी अधिसूचित वाणिज्यिक बैंक की प्रत्येक शाखा से कम से कम एक अनुसूचित जाति (अ जा ) या अनुसूचित जनजाति (अ ज जा ) के उधारकर्ता को और कम से कम एक महिला उधारकर्ता को रु 10 लाख से रु 1 करोड़ तक के बैंक ऋण सुलभ कराएं जाएंगे।

Important Steps महत्वपूर्ण कदम

Stand-Up India Ecosystemस्टैंड-अप इंडिया पारितंत्र

 

me4WE initiative by SIDBIसिडबी द्वारा मि4वी पहल

If you are a woman entrepreneur, then don’t worry. A group of women employees of SIDBI and some successful women entrepreneurs have volunteered to help women entrepreneurs approaching the portal as part of the me4WE (mentor enablers for women entrepreneurs). अगर आप महिला उद्यमी हैं, तो चिंता न करें। सिडबी की महिला कर्मचारियों के एक समूह और कुछ सफल महिला उद्यमियों ने मि4वी के हिस्से के रूप में पोर्टल पर महिलाओं की पहुँच को आसान बनाने में मदद के लिए स्वैच्छिक सेवा दी है।

Our Mentors are here in Voluntary Womens club to help you in each and every step. To get in touch with them first login to the portal.. अगर आप महिला उद्यमी हैं, तो चिंता न करें। सिडबी की महिला कर्मचारियों के एक समूह और कुछ सफल महिला उद्यमियों ने मि4वी के हिस्से के रूप में पोर्टल पर महिलाओं की पहुँच को आसान बनाने में मदद के लिए स्वैच्छिक सेवा दी है।

To login please click hereलॉगिन के लिए यहाँ क्लिक करें

Choose me4WE support while filling the application form or choose from hand holding supportआवेदन फार्म भरते समय मि4वी सहायता चुनें या हैंड होल्डिंग सहायता चुनें।

Get help along the way..हर समय सहायता प्राप्त करें

The emerging enterprises can seek handholding support online on the portal itself on fee basis. उभरते उद्यमी शुल्क आधार पर पोर्टल पर ऑनलाइन हैंडहोल्डिंग सहायता प्राप्त कर सकते हैं।

For availing hand-holding support, click hereहैंड-होल्डिंग सहायता के लिए, यहाँ क्लिक करें

The hand-holding support is based on self-assessment module which works on hypothesis that aspirant need not know scheme explicitly, he will be guided. A set of questions at the initial stage are to be responded, some of them are (i) Category of the Borrower – SC / ST / Women, (ii) Location, (iii) Nature of Business, (iv) Details of Existing / Present Bank Account, (v) Any previous experience of business, (vi) Requirements of skills / training (technical / Financial), (vii) Assistance needed for preparation of a project plan, etc. Based on the responses, the portal provides relevant feedback and helps categorizing the visitor to the portal as a “Ready Borrower” or “Trainee Borrower”. हैंड-होल्डिंग सहायता स्व-मूल्यांकन पर आधारित है जो परिकल्पना पर काम करता है जिस आकांक्षी को योजना का स्पष्ट रूप से जानकारी नहीं है उसे मार्गदर्शन प्रदान किया जाएगा। प्रथम चरण में प्रश्नों के एक सेट का उत्तर दिया जाना है, उन मेंसे कुछ इस प्रकार हैं (i) उधारकर्ता का वर्ग – अ जा / अ ज जा / महिला, (ii) अवस्थिति, (iii) व्यवसाय की प्रकृति, (iv) मौजूदा / वर्तमान बैंक खाते का विवरण, (v) व्यवसाय का कोई पिछला अनुभव, (vi) कौशल / प्रशिक्षण (तकनीकी /वित्तीय) की आवश्यकता, (vii) परियोजना योजना की तैयारी के लिए सहायता की आवश्यकता इत्यादि। प्रतिक्रियाओं के आधार पर पोर्टल प्रासंगिक प्रतिसूचना प्रदान करता है और पोर्टल “तैयार उधारकर्ता” या “प्रशिक्षु उधारकर्ता” के रूप में विजिटर को वर्गीकृत करने में मदद करता है।

Prepare Project Reportपरियोजना रिपोर्ट तैयार करें

To help you prepare a Detailed project report (DPR) or Techno-Economic Viability Report (TEV), you can view various bankable project profiles on the portal, grouped by industry, MSME classification (Micro, Small and Medium) and loan amount. विस्तृत परियोजना रिपोर्ट या तकनीकी (डीपीआर) – आर्थिक व्यवहार्यता रिपोर्ट (टीईवी) तैयार करने में आप की सहायता करने के लिए, आप पोर्टल पर विभिन्न बैंककारी परियोजना प्रोफ़ाइल, उद्योग द्वारा समूहीकृत, एमएसएमई वर्गीकरण (सूक्ष्म, लघु और माध्यम) और ऋण राशि देख सकते हैं।

Click Here to view Project Profilesपरियोजना प्रोफ़ाइल देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

Available subsidiesउपलब्ध अनुदान

There are various State level and Central level subsidies available under this scheme. Subsidies specifically related to SC/ST & Women are also collated and Categorized. इस योजना के अंतर्गत राज्य स्तर और केंद्रीय स्तर पर विभिन्न सब्सिडी उपलब्ध हैं। विशेष रूप से अ जा / अ ज जा एवं महिलाओं से संबन्धित सब्सिडी समानुक्रमित और वर्गीकृत किया गया है

Click Here to know moreअधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें

Collateral Free Loansसंपार्श्विक मुक्त ऋण

If you are in need of credit facility / loan, but do not have collateral security, you can avail credit guarantee coverage available for Stand-Up India through NCGTC (National Credit Guarantee Trustee Company) under CGSSI (Credit Guarantee Scheme for Stand-Up India). अगर आपको ऋण सुविधा / ऋण की आवश्यकता है, तो आप सीजीआईएसएसआई (स्टैंड-अप इंडिया के लिए ऋण गारंटी योजना) के अंतर्गत एनसीजीआईटीसी (नेशनल क्रेडिट गारंटी ट्रस्टी कंपनी) के माध्यम से स्टैंड-अप इंडिया के लिए उपलब्ध ऋण गारंटी कवर ले सकते हैं।

Audio Visualsऑडियो विजुअल

Audio visuals are hosted on Standupmitra portal managed by SIDBI in 13 vernacular languages, which will help you to understand more on how to access the portal and apply for availing an MSME loan. सिडबी द्वारा प्रबंधित स्टैंडअपमित्रा पोर्टल में 13 देशी भाषाओं में ऑडियो विजुअल होस्ट किया गया है, जिससे आपको पोर्टल तक पहुंचने और एमएसएमई ऋण प्राप्त करने के लिए आवेदन करने के संबंध में मदद मिलेगा।

Standupmitra Audio Visualsस्टैंड-अप मित्रा ऑडियो विजुअल

More questionsऔर अधिक प्रश्न?

Your enquiry (as an applicant, Handholding agency or bankers) can be aptly handled at FAQ (Frequently Asked Questions) section. आपके पूछताछ एफएक्यू (अकसर पूछे जाने वाले प्रश्न) अनुभाग में समुचित रूप से उत्तर दिए जा सकते हैं

Call Us at National Toll Free Numberहमें राष्ट्रीय टोल फ्री नंबर में काल करें 1800 180 1111/1800 11 0001

Click Here for FAQsसामान्य प्रश्न / जिज्ञासाएँ के लिए यहां क्लिक करें